भारतीय दंड संहिता की धारा 123 क्या हैं ? IPC Section 123 In Hindi

IPC Section 123 In Hindi हॅलो‌ ! इस पोस्ट में हम आपको भारतीय दंड संहिता (IPC) की धारा 123 क्या हैं इसके बारे में जानकारी देने वाले हैं। भारतीय दंड संहिता में अपराध और उनकी सजा के बारे में जानकारी दी गई है। भारतीय दंड संहिता को अंग्रेज शासनकाल में लागू किया गया था।

IPC Section 123 In Hindi

भारतीय दंड संहिता की धारा 123 क्या हैं ? IPC Section 123 In Hindi

जब किसी देश में युद्ध होने वाला होता हैं तब बाहर देश के लोग युद्ध‌ करने से पहले हमारे देश के लोगों से देश‌ में क्या चल रहा हैं इसके बारे में जानकारी लेते हैं। जिससे वह देश की हालचाल जान लें और युद्ध की योजना बनाएं। इस पोस्ट में हम आपको देश के खिलाफ युद्ध छेड़ना और कोई बात छुपाने की क्या सजा होती हैं इसके बारे में जानकारी वाले हैं। भारतीय दंड संहिता की धारा 123 क्या हैं इसके बारे में विस्तार में जानकारी प्राप्त करने के लिए हमारी पोस्ट अंत तक जरुर पढ़िए।

भारतीय दंड संहिता की धारा 123 क्या हैं‌ ?-

भारतीय दंड संहिता की धारा 123 के अनुसार जो भी कोई व्यक्ति युद्ध‌ करने की परीकल्पना के अस्तित्वों को किसी कार्य के द्वारा या किसी अवैध लोप के द्वारा इस आशय से की इस प्रकार से छिपाने से ऐसा युद्ध सुकर बनाएगा या छुपाएगा वह दोनों में से किसी भांति के कारावास से, जिस कारावास की अवधि दस साल तक की हो सकेगी उससे दंडित किया जाएगा या जुर्माने से भी दंडित किया जाएगा।

अब इस धारा को हम आपको आसान भाषा में समझाते हैं। कोई भी व्यक्ती भारत सरकार के विरुद्ध युद्ध छेड़ने के लिए किसी षड्यंत्र के माध्यम से इरादे को छिपाता हैं या किसी गैरकानूनी तरीके का इस्तेमाल करके उसे छिपाता हैं तो ऐसे व्यक्ती पर भारतीय दंड संहिता की धारा 123 लागू की जाती हैं।

भारतीय दंड संहिता की धारा 123 के तहत सजा –

अगर कोई भी व्यक्ती भारत सरकार के खिलाफ युद्ध करने के लिए या छेड़ने के लिए षड्यंत्र के माध्यम से इरादे को छिपाता हैं तो ऐसे व्यक्ती पर भारतीय दंड संहिता की धारा 123 लागू की जाती हैं। इस धारा के तहत इस अपराध को दस साल तक की कारावास की सजा सुनाई जाती हैं। इसके साथ साथ आर्थिक दंड से भी दंडित किया जाता हैं।

भारतीय दंड संहिता की धारा 123 के तहत जमानत –

अगर किसी व्यक्ती पर भारतीय दंड संहिता की धारा 123 लगवाई जाती हैं तो उसे दस साल तक की कारावास की सजा दी जाती हैं। इसके साथ साथ दंड से भी दंडित किया जाता हैं। यह अपराध गैर जमानती अपराध हैं। अगर यह धारा किसी व्यक्ती पर लगवाई जाती हैं तो उसे जमानत मिलना मुश्किल हो जाता हैं। इस अपराध में जमानत मिलने के लिए बहुत साल लग सकते हैं।

FAQ

भारतीय दंड संहिता की धारा 123 क्या हैं ?

भारतीय दंड संहिता की धारा 123 के अनुसार जो भी कोई व्यक्ति युद्ध‌ करने की परीकल्पना के अस्तित्वों को किसी कार्य के द्वारा या किसी अवैध लोप के द्वारा इस आशय से की इस प्रकार से छिपाने से ऐसा युद्ध सुकर बनाएगा या छुपाएगा वह दोनों में से किसी भांति के कारावास से, जिस कारावास की अवधि दस साल तक की हो सकेगी उससे दंडित किया जाएगा या जुर्माने से भी दंडित किया जाएगा।

भारतीय दंड संहिता की धारा 123 के तहत क्या सजा होती हैं ?

अगर कोई भी व्यक्ती भारत सरकार के खिलाफ युद्ध करने के लिए या छेड़ने के लिए षड्यंत्र के माध्यम से इरादे को छिपाता हैं तो ऐसे व्यक्ती पर भारतीय दंड संहिता की धारा 123 लागू की जाती हैं। इस धारा के तहत इस अपराध को दस साल तक की कारावास की सजा सुनाई जाती हैं। इसके साथ साथ आर्थिक दंड से भी दंडित किया जाता हैं।

क्या भारतीय दंड संहिता की धारा 123 में जमानत मिल सकती है ?

अगर किसी व्यक्ती पर भारतीय दंड संहिता की धारा 123 लगवाई जाती हैं तो उसे दस साल तक की कारावास की सजा दी जाती हैं। इसके साथ साथ दंड से भी दंडित किया जाता हैं। यह अपराध गैर जमानती अपराध हैं। अगर यह धारा किसी व्यक्ती पर लगवाई जाती हैं तो उसे जमानत मिलना मुश्किल हो जाता हैं। इस अपराध में जमानत मिलने के लिए बहुत साल लग सकते हैं।

इस पोस्ट में हमने आपको भारतीय दंड संहिता की धारा 123 क्या हैं इसके बारे में जानकारी दी हैं। हमारी पोस्ट शेयर जरुर किजिए। धन्यवाद !

Leave a Comment