भारतीय दंड संहिता की धारा 504 क्या हैं ? IPC Section 504 In Hindi

IPC Section 504 In Hindi हॅलो ! इस पोस्ट में हम‌ आपको अगर हमें कोई गाली दें या धमकी दें तो क्या करना चाहिए इसके बारे में जानकारी देने वाले हैं। आप सभी ने बहुत बार लोगों को गाली देते हुए या धमकी देते हुए देखा होगा। बहुत बार हम जिस सोसायटी में रहते हैं उसमें या पडोसीयों के साथ झगड़े होते हैं।

IPC Section 504 In Hindi

भारतीय दंड संहिता की धारा 504 क्या हैं ? IPC Section 504 In Hindi

बहुत लोग झगड़ों में बुरी बुरी गालियां और धमकियां देते हैं। कभी कभी सुनके ऐसी बातों को नजरंदाज किया जाता है लेकीन कभी कभी ऐसे लोगों को सबक सिखाने के लिए कानून का सहारा भी लिया जाता है। बहुत लोग ऐसे लोगों को सबक सिखाना चाहते हैं लेकिन कैसे सबक सिखाना चाहिए इसके बारे में उनको पता नहीं होता।

इसलिए हम आपको इस पोस्ट में अगर हमें कोई गाली दें या धमकी दें तो क्या करें इसके बारे में जानकारी देने वाले हैं। अगर हमें कोई गाली दें या धमकी दें तो क्या करें इसके बारे में जानकारी प्राप्त करने के लिए हमारी पोस्ट अंत तक जरुर पढ़िए।

अगर हमें कोई गाली या धमकी दें तो क्या करें ?-

  • अगर आपको कोई गाली देता हैं या धमकी देता हैं तो‌ आपको सबसे पहले सबुत इकट्ठा करने की जरूरत होती है।
  • इसलिए अगर आपको कोई गाली या धमकी दे रहा हैं तो सबसे पहले आपको ऑडियो या विडियो रेकाॅर्डिंग करने की जरूरत है।
  • अगर आपके साथ आपके परिवार का कोई व्यक्ती हैं या दोस्त हैं तो आप उन्हें रेकाॅर्डिंग या विडियो करने के लिए कह सकते हैं।
  • अगर आपको कोई व्यक्ती काॅल करके गाली या धमकी दे रहा हैं तो आप उसके काॅल की रेकाॅर्डिंग कर सकते हैं।
    गाली या धमकी देने वाले व्यक्ती को किस सेक्शन के अंतर्गत सजा हो सकती है ?

भारतीय दंड संहिता (IPC) की धारा 504-

भारतीय दंड संहिता (IPC) की धारा 504 अपमान, सार्वजनिक शांति और सार्वजानिक शांति के खिलाफ अपराधों से संबंधित हैं। भारतीय दंड संहिता की धारा 504 के अनुसार अगर कोई व्यक्ती दुसरे व्यक्ती का अपमान करता हैं या उकसाता है क्योंकी वह व्यक्ती भड़क जाए और सार्वजनिक शांति भंग हो जाए तो उस व्यक्ती को कारावास और दंड दोनों की भी सजा दी जा सकती है। ऐसे व्यक्ती को दो साल तक का कारावास और जुर्माने की सजा मिल सकती है।

भारतीय दंड संहिता की धारा 504 के तहत अपमान क्या हैं ?-

भारतीय दंड संहिता की धारा 504 के तहत अगर एक व्यक्ती दुसरे व्यक्ती का मौखिक अनादर करता हैं तो उसे अपमान कहा जाता हैं। अगर कोई व्यक्ती दुसरे व्यक्ती को ऐसे शब्द बोलता हैं की जिससे दुसरे व्यक्ती के मन को ठेस लगे तो उसे अपमान कहां जा सकता हैं। अगर कोई व्यक्ती दुसरे व्यक्ती को कोई अपशब्द कहता हैं तो उसे अपमान कहां जा सकता है। हमें आसपास हमेशा यह दिखता हैं की किसी का झगड़ा चल रहा हैं और वह लोग एक दूसरे के खिलाफ अपशब्द बोल रहे हैं।

भारतीय दंड संहिता की धारा 504 के अपवाद –

  • सामान्य रुप से दोस्तों के बीच में जो अनौपचारिक बातें होती हैं जिसमें वह एक दुसरे को अलग अलग नाम से पुकारते हैं इसे भारतीय दंड संहिता की धारा 504 के अंतर्गत अपमान नहीं कहां जाएगा।
  • अगर एक व्यक्ती दुसरे व्यक्ती के खिलाफ अपशब्दों का इस्तेमाल करता हैं लेकिन उसे किसी को उकसाने का और सार्वजनिक शांति भंग करने का कोई इरादा नहीं हैं तो उसे भारतीय दंड संहिता की धारा 504 के अंतर्गत अपराध नहीं कहां जाएगा।

भारतीय दंड संहिता (IPC) की धारा 506-

भारतीय दंड संहिता के धारा 506 में धमकी के बारे में बताया गया हैं। अगर कोई व्यक्ती दुसरे व्यक्ती को धमकी देता हैं तो उस व्यक्ती को भारतीय दंड संहिता की धारा 506 के अंतर्गत दो साल तक का कारावास या जुर्माना या दोनों की भी सजा दी जा सकती है।

अगर कोई व्यक्ती दुसरे व्यक्ती को आग से जलाने की, मृत्यु, गंभीर चोट या संपत्ति को नष्ट करने की धमकी देता हैं तो उसे भारतीय दंड संहिता की धारा 506 के अंतर्गत सात साल तक का कारावास या जुर्माना या दोनों‌ की भी सजा दी जा सकती है।

FIR कैसे करें ?-

अगर आपके साथ ऐसा कोई अपराध होता हैं तो आप पुलिस स्टेशन जा सकते हैं। पुलिस स्टेशन में जाने के बाद पुलिस सिर्फ आपकी शिकायत लेगी और आपको NCR की काॅपी देगी। इस मामले में आपकी FIR रजिस्टर्ड नहीं करवाई जाएगी क्योंकी यह Non cognizable offence हैं। इस मामले में आपकी FIR सिधे पुलिस स्टेशन से नहीं हो सकती। अगर आपके साथ वह व्यक्ती दुबारा वहीं अपराध करता हैं तो आपकी FIR रजिस्टर्ड की जा सकती हैं।

अगर आपके साथ पहली बार ही ऐसा हुआ हैं तो आप NCR काॅपी लेकर कोर्ट में जा सकते हैं। कोर्ट में जाकर अगर आप सीआरपीसी की धारा 156(3) के तहत आवेदन करते हैं तो कोर्ट FIR रजिस्टर करवाने के आदेश दे सकती हैं। अगर कोर्ट को आपके सबुत संदेहजनक या काफी नहीं लग रहे हैं तो कोर्ट आपके गवाहों को और सबुतों को परखने के बाद ही आदेश जारी करेगी।

अगर किसी महिला को गाली या धमकी दी जाए तो क्या करें ?-

अगर किसी महिला को किसी व्यक्ती के द्वारा गाली या धमकी दी जाती हैं तो उस महिला को उपर बताई हुई प्रोसिजर ही फाॅलो करनी हैं। अगर महिला को किसी पुरुष के द्वारा गाली या धमकी दी जा रही हैं तो वह महिला पुलिस स्टेशन में जाकर भारतीय दंड संहिता के धारा 509 के तहत FIR रजिस्टर्ड कर सकती हैं।

अगर कोई पुरुष किसी महिला को गाली देता हैं या उसके नारीत्व के खिलाफ कुछ भी बोलता हैं तो उस व्यक्ती को इस धारा के तहत 3 साल तक के कारावास की सजा या जुर्माना या दोनों भी सजा हो सकती है।

FAQ

गाली या धमकी देने वाले व्यक्ती पर कौन कौनसे सेक्शन लगवा सकते हैं ?

गाली या धमकी देने वाले व्यक्ती पर भारतीय दंड संहिता का सेक्शन‌ 504 और सेक्शन 506 लगवा सकते हैं।

अगर कोई व्यक्ती किसी महिला को गाली या धमकी देता हैं तो उसे कौनसी सजा हो सकती है ?

अगर कोई पुरुष किसी महिला को गाली देता हैं या उसके नारीत्व के खिलाफ कुछ भी बोलता हैं तो उस व्यक्ती को इस धारा के तहत 3 साल तक के कारावास की सजा या जुर्माना या दोनों भी सजा हो सकती है।

भारतीय दंड संहिता की धारा 504 क्या हैं ?

भारतीय दंड संहिता (IPC) की धारा 504 अपमान, सार्वजनिक शांति और सार्वजानिक शांति के खिलाफ अपराधों से संबंधित हैं। भारतीय दंड संहिता की धारा 504 के अनुसार अगर कोई व्यक्ती दुसरे व्यक्ती का अपमान करता हैं या उकसाता है क्योंकी वह व्यक्ती भड़क जाए और सार्वजनिक शांति भंग हो जाए तो उस व्यक्ती को कारावास और दंड दोनों की भी सजा दी जा सकती है।

भारतीय दंड संहिता की धारा 506 क्या हैं ?

भारतीय दंड संहिता के धारा 506 में धमकी के बारे में बताया गया हैं। अगर कोई व्यक्ती दुसरे व्यक्ती को धमकी देता हैं तो उस व्यक्ती को भारतीय दंड संहिता की धारा 506 के अंतर्गत दो साल तक का कारावास या जुर्माना या दोनों की भी सजा दी जा सकती है। अगर कोई व्यक्ती दुसरे व्यक्ती को आग से जलाने की, मृत्यु, गंभीर चोट या संपत्ति को नष्ट करने की धमकी देता हैं तो उसे भारतीय दंड संहिता की धारा 506 के अंतर्गत सात साल तक का कारावास या जुर्माना या दोनों‌ की भी सजा दी जा सकती है।

इस पोस्ट में हमने आपको अगर हमें कोई गाली दें या धमकी दें तो क्या करना चाहिए इसके बारे में जानकारी दी हैं। हमारी पोस्ट शेयर जरुर किजिए। धन्यवाद !

Leave a Comment