भारतीय दंड संहिता की धारा 81 क्या हैं ? IPC Section 81 In Hindi

IPC Section 81 In Hindi हॅलो ! इस पोस्ट में हम आपको भारतीय दंड संहिता की धारा 81 क्या हैं इसके बारे में जानकारी देने वाले हैं । भारतीय दंड संहिता की धारा 81 में ऐसा कार्य जिससे नुकसान होने की संभावना हैं लेकिन आपराधिक इरादे के सिवाय और किसी नुकसान को रोकने के लिए किया हैं इसके बारे में जानकारी दी है । इस पोस्ट में हम आपको इसी के बारे में जानकारी देने वाले हैं ‌।

IPC Section 81 In Hindi

भारतीय दंड संहिता की धारा 81 क्या हैं ? IPC Section 81 In Hindi

भारतीय दंड संहिता की धारा 81 क्या हैं ? –

भारतीय दंड संहिता की धारा 81 में ऐसा कार्य जिससे नुकसान होने की संभावना हैं लेकिन आपराधिक इरादे के सिवाय और किसी नुकसान को रोकने के लिए किया हैं इसके बारे में जानकारी दी है । भारतीय दंड संहिता के धारा 81 के अनुसार , ऐसा कार्य जिससे नुकसान होने की संभावना हैं , लेकिन आपराधिक इरादे के सिवाय और किसी नुकसान के रोकने के लिए किया हैं तो यह बात अपराध नहीं है ।

दृष्टांत –

क) क यह एक जहाज हैं और इसके सामने से ख यह जहाज आ रही हैं । ख इस जहाज में सौ लोग हैं और ऐसी परिस्थिति हैं की अगर क इस जहाज ने अपना मार्ग नहीं बदला तो क और ख इन दोनों जहाज टकराकर सौ लोगों की जान खतरे में आने की संभावना हैं । अगर क इस जहाज ने रास्ता बदला तो सौ लोगों की जान बच सकती है ।

लेकिन दुसरे रास्ते से ग यह जहाज आ रही है और उसमें दो लोग हैं ‌। क ने सौ लोगों को बचाने के लिए अपना रास्ता बदला और ग इस जहाज के दो लोगों की जान खतरे में आ गई । अब इस परिस्थिति में क इस जहाज के कप्तान को अपराधी नहीं माना जाएगा । क्योंकी क इस जहाज के कप्तान ने जो कार्य किया वह ज्यादा नुकसान को कम करने के लिए किया ।

ख) क यह व्यक्ती आग से संपत्ति और लोगों का बचाव करने के लिए घरों को गिरा देता हैं । यह सब क सिर्फ लोगों का और संपत्ति का बचाव करने के लिए करता हैं । क का यह कार्य माफी के योग्य हैं और क को अपराधी नहीं माना जाएगा ।

इस पोस्ट में हमने आपको भारतीय दंड संहिता की धारा 81 के बारे में जानकारी दी है । हमारी यह पोस्ट शेयर जरुर किजिए । धन्यवाद !

Leave a Comment