भारतीय दंड संहिता की धारा 94 क्या हैं ? IPC Section 94 In Hindi

IPC Section 94 In Hindi हॅलो ! इस पोस्ट में हम आपको भारतीय दंड संहिता की धारा 94 क्या हैं इसके बारे में जानकारी दी हैं। भारतीय दंड संहिता की धारा 94 में ऐसा कार्य जो करने के लिए धमकियां देकर विवश कर दिया है इसके बारे में जानकारी दी हैं। इस पोस्ट में हम आपको इसी के बारे में जानकारी देने वाले हैं।

IPC Section 94 In Hindi

भारतीय दंड संहिता की धारा 94 क्या हैं ? IPC Section 94 In Hindi

भारतीय दंड संहिता की धारा 94 क्या हैं ? –

भारतीय दंड संहिता की धारा 94 में ऐसा कार्य जो करने के लिए धमकियां देकर विवश कर दिया है इसके बारे में जानकारी दी हैं। भारतीय दंड संहिता की धारा 94 के अनुसार राज्य के विरुद्ध के ऐसे अपराध जो मृत्यु और हत्या से दंडनीय हैं.

यह छोड़कर ऐसी कोई भी बात या कोई भी कार्य अपराध नहीं जो कार्य करने के लिए किसी व्यक्ती को धमकी देकर विवश कर दिया हैं और उनसे बात करते वक्त उसको यह पता चल गया हैं की इसका परिणाम तात्काल मृत्यु होगा अन्यथा कार्य करने वाला व्यक्ती अपनी मर्जी से या फिर तात्काल मृत्यु से पहले स्वयं को नुकसान के उचित आशंका से स्वयं को उस परिस्थिति में रख देता हैं जिससे वह इस तरह के बाधा के अधीन हो जाता हैं।

स्पष्टीकरण 1-ऐसा व्यक्ती जो खुद को खुद की इच्छा से या पिटने की धमकी के वजह से , गुंडों की टोली में और उनके चरित्र को जानते हुए भी खुद ही उनमें सम्मलित हो जाता हैं , इस आधार पर वह इस अपवाद का लाभ लेने का हकदार नहीं हैं की वह अपने साथियों के द्वारा इस तरह की बात करने के लिए विवश हो गया था जो अपराध हैं‌।

स्पष्टीकरण 2-अगर किसी व्यक्ती को गुंडों की टोली द्वारा अभिगृहीत या तत्काल मृत्यु की धमकी द्वारा कोई बात या कार्य करने के लिए विवश कर दिया है। मान लीजिए की एक लोहार हैं और उसे गुंडों द्वारा उसके औजार की मदद से गृह का द्वार तोड़ने के लिए विवश कर दिया है क्योंकी वह गुंडे घर में प्रवेश करके सब लुट सके तो वह लोहार इस अपवाद का लाभ लेने का हकदार हैं।

इस पोस्ट में हमने आपको भारतीय दंड संहिता की धारा 94 के बारे में जानकारी दी हैं। हमारी यह पोस्ट शेयर जरुर किजिए। धन्यवाद!

Leave a Comment